Press "Enter" to skip to content

Posts published in “Mamtansh Ajit”

दुकानदार और ग्राहक| Mamtansh Ajit

 जब कोई रिश्ता , रिश्ता ना रह कर एक व्यापार बन जाता है , जब रिश्तों को अपनी जरूरत के हिसाब से प्रलोभन दिया जाता…